जीवन


गम के रेगिस्तान में
खुशनुमां हरियाली लाना है
हर इक खेत को यहां
खुशियों कि सिचाईं पाना है ।
रंगमंच कि कठपुतलियों को
अहंकार का भाव न हो
वाणी का हो योग्य प्रयोजन
अंतःकरण में घाव न हो ।
अद्भुत अद्मम्य अचल  साहस की
लिखता तू जा  परिभाषा..
मन है य्वाकूल ,

जीवन  रण में,

विजयमात्र की रख अभिलाषा ।

Comments

Popular Posts